• Song : Kiska Hai Ye Tumko Intezar – Main Hoon Na
  • Album : Main Hoon Na (2004)
  • Singer : Sonu Nigam, Shreya Ghoshal
  • Music : Anu Malik
  • Lyrics : Javed Akhtar

Kiska Hai Tumko intezar | Lyrics| Sonu Nigam|In English

Kiska hai yeh tumko intezar main hoon na
Dekh lo idhar to ek baar main hoon na
Kiska hai yeh tumko intezar main hoon na
Dekh lo idhar to ek baar main hoon na
Khamosh kyun ho jo bhi kehna hai kaho
Dil chaahe jitna pyaar utna maang lo ho..
Tumko milega utna pyaar main hoon na
Kiska hai yeh tumko intezar main hoon na
Dekh lo idhar to ek baar main hoon na

Kabhi jo tum socho, ke tum yeh dekho
Arre kitna mujhko tumse pyaar hai
To chup mat rehna, yeh mujhse kehna
Arre koi kya aisa bhi yaar hai
Dil hi nahin de jaan bhi de jo tumhein
Dil hi nahin de jaan bhi de jo tumhein
Ho.. to main kahoonga
Sarkar main hoon na aa

Kiska hai yeh tumko intezar main hoon na
Dekh lo idhar to ek baar main hoon na
Khamosh kyun ho jo bhi kehna hai kaho
Dil chaahe jitna pyaar utna maang lo ho..
Tumko milega utna pyaar main hoon na
Kiska hai yeh tumko intezar main hoon na
Dekh lo idhar to ek baar main hoon na

Kehne ki ho dil mein koi baat, mujhse kaho
Koi pal ho din ho ya ho raat, mujhse kaho
Koi mushkil, koi pareshani aaye
Tumhein lage kuchh theek nahin halaat, mujhse kaho
Koi ho tamanna ya ho koi aarzu
Koi ho tamanna ya ho koi aarzu
Ho.. rehna kabhi na bekaraar main hoon na

Kiska hai yeh tumko intezar main hoon na
Dekh lo idhar to ek baar main hoon na
Khamosh kyun ho jo bhi kehna hai kaho
Dil chaahe jitna pyaar utna maang lo ho..
Tumko milega utna pyaar main hoon na
Kiska hai yeh tumko intezar main hoon na
Dekh lo idhar to ek baar main hoon na

Kiska Hai Tumko intezar | Lyrics| Sonu Nigam|In Hindi

किसका है ये तुमको इंतज़ार मैं हूँ ना
देख लो इधर तो एक बार मैं हूँ ना
ख़ामोश क्यों हो जो भी कहना है कहो
दिल चाहे जितना प्यार उतना माँग लो
हो, तुमको मिलेगा उतना प्यार मैं हूँ ना
किसका है ये तुमको…

कभी जो तुम सोचो, कि तुम ये देखो
अरे कितना मुझको तुमसे प्यार है
तो चुप मत रहना, ये मुझसे कहना
अरे कोई क्या ऐसा भी यार है
दिल ही नहीं दे, जान भी दे जो तुम्हें
हो, तो मैं कहूँगा सरकार मैं हूँ ना
किसका है ये तुमको…

कहने की हो दिल में कोई बात, मुझसे कहो
कोई पल हो दिन हो या हो रात, मुझसे कहो
कोई मुश्किल कोई परेशानी आये
तुम्हें लगे कुछ ठीक नहीं हालात, मुझसे कहो
कोई हो तमन्ना या हो कोई आरज़ू
हो, रहना कभी ना बेक़रार मैं हूँ ना
किसका है ये तुमको…

खोया है पा के जिसने प्यार, मैं हूँ ना
बेचैन मैं हूँ, बेक़रार मैं हूँ ना
कोई तो हो ऐसा जिसको अपना कह सकूँ
कोई तो हो ऐसा जिसके दिल में रह सकूँ
हो, कोई तो कहता एक बार मैं हूँ ना
खोया हैं पा के…

जो बंधन टूटे, जो अपने रूठे
पास आ जाएँ फिर से दूरियाँ
ये क्यूँ होता है, के दिल रोता है
बेबस हो जाती है ये ज़बां
अपने तो सारे इस किनारे रह गये
हो, तन्हाँ चला जो उस पार मैं हूँ ना
खोया है पा के…

जहाँ भी मैं जाऊँ, जहाँ भी मैं देखूँ
सारे चेहरे बेगाने से हैं
कभी कोई था, जो मेरा ही था
ये किस्से अब अफ़साने से हैं
कल ज़िन्दगी ने खेल खेले थे नये
कुछ लोग जीते जीत के सब ले गये
हो, हिस्से में आया जिसके हार मैं हूँ
ना
खोया है पाके…