• Song : Aye Ajnabi Tu Bhi Kabhi
  • Movie : Dil Se (1998)
  • Singer : Udit Narayan, Mahalaxmi
  • Music : A. R. Rahman
  • Lyrics : Gulzar

Ae Ajnabi| Lyrics| Udit Narayan | In English

Pakhi pakhi pardesi – 6
Aye ajnabi tu bhi kabhi
Awaaz de kahin se
Aye ajnabi tu bhi kabhi
Awaaz de kahin se
Main yahan tukdon mein ji raha hoon
Main yahan tukdon mein ji raha hoon
Tu kahin tukdon mein ji rahi hai
Aye ajnabi tu bhi kabhi
Awaaz de kahin se
Aye ajnabi tu bhi kabhi
Awaaz de kahin se

Roz roz resham si hawa
Aate jaate kehti hai bataa
Resham si hawa kehti hai bataa
Woh jo doodh dhuli, maasoom kali
Woh hai kahan kahan hai
Woh roshani kahan hai
Woh jaan si kahan hai
Main adhooraa, tu adhoori ji rahi hai

Aye ajnabi tu bhi kabhi
Awaaz de kahin se
Aye ajnabi tu bhi kabhi
Awaaz de kahin se
Main yahan tukdon mein ji raha hoon
Main yahan tukdon mein ji raha hoon
Tu kahin tukdon mein ji rahi hai
Aye ajnabi tu bhi kabhi
Awaaz de kahin se

Pakhi pakhi pardesi – 4

Tu to nahin hai lekin
Teri muskuraahat hai
Chehra kahin nahin hai par
Teri aahatein hai
Tu hai kahan kahan hai
Tera nishaan kahan hai
Mera jahan kahan hai
Main adhooraa, tu adhoori ji rahi hai

Aye ajnabi tu bhi kabhi
Awaaz de kahin se
Aye ajnabi tu bhi kabhi
Awaaz de kahin se
Main yahan tukdon mein ji raha hoon
Main yahan tukdon mein ji raha hoon
Tu kahin tukdon mein ji rahi hai
Aye ajnabi tu bhi kabhi
Awaaz de kahin se
Aye ajnabi tu bhi kabhi
Awaaz de kahin se

Ae Ajnabi| Lyrics| Udit Narayan | In Hindi

ओ पाखी पाखी परदेसी
पाखी पाखी परदेसी
पाखी पाखी परदेसी
पाखी पाखी परदेसी
पाखी पाखी परदेसी
पाखी पाखी परदेसी

ऐ अजनबी तू भी कभी आवाज़ दे कहीं से
ऐ अजनबी तू भी कभी आवाज़ दे कहीं से
मैं यहाँ टुकड़ों में जी रहा हूँ
मैं यहाँ टुकड़ों में जी रहा हूँ
तू कहीं टुकड़ों में जी रही है

ऐ अजनबी तू भी कभी आवाज़ दे कहीं से
ऐ अजनबी तू भी कभी आवाज़ दे कहीं से
रोज़-रोज़ रेशम सी हवा
आते-जाते कहती है बता
रेशम सी हवा कहती है बता
वो जो दूध धुली मासूम कली
वो है कहाँ, कहाँ है
वो रौशनी कहाँ है
वो जान सी कहाँ है
मैं अधूरा तू अधूरी जी रहे हैं

ऐ अजनबी तू भी कभी आवाज़ दे कहीं से
ऐ अजनबी तू भी कभी आवाज़ दे कहीं से
मैं यहाँ टुकड़ों में जी रहा हूँ
मैं यहाँ टुकड़ों में जी रहा हूँ
तू कहीं टुकड़ों में जी रही है
ऐ अजनबी तू भी कभी आवाज़ दे कहीं से

पाखी पाखी परदेसी
पाखी पाखी परदेसी
पाखी पाखी परदेसी
पाखी पाखी परदेसी
तू तो नहीं है लेकिन
तेरी मुस्कुराहटें हैं
चेहरा कहीं नहीं है
पर तेरी आहटें हैं
तू है कहाँ, कहाँ है
तेरा निशाँ कहाँ है
मेरा जहाँ कहाँ है
मैं अधूरा तू अधूरी जी रहे हैं

ऐ अजनबी तू भी कभी आवाज़ दे कहीं से
ऐ अजनबी तू भी कभी आवाज़ दे कहीं से
मैं यहाँ टुकड़ों में जी रहा हूँ
मैं यहाँ टुकड़ों में जी रहा हूँ
तू कहीं टुकड़ों में जी रही है

ऐ अजनबी तू भी कभी आवाज़ दे कहीं से
ऐ अजनबी तू भी कभी आवाज़ दे कहीं से